तेरी - मेरी आशिकी ! Part - 09! कॉलेज लव स्टोरी इन हिंदी ! School Love Story In Hindi ! Love Feeling & Romantic Love Story In College ! Love Triangle story

teri-meri-aashiqui-love-story-hindi-mein-

तेरी - मेरी आशिकी ! Part - 09! कॉलेज लव स्टोरी इन हिंदी ! School Love Story In Hindi ! Love Feeling & Romantic Love Story In College ! Love Triangle story

तेरी- मेरी आशिक़ी का  सभी भाग (Episode) पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 


तेरी-मेरी आशिकी का Part- 08 पढने के लिए यहाँ क्लिक करे


" अच्छा आप हो ! क्यों जी इतनी जल्दी क्यों जाना चाह रही हैं ? थोड़ा मेरे तरफ से भी रुक जाइए।" अर्जून भैया बोले।
 उस दिन भैया के बात से पता चल रहा था कि उस दिन भैया काफी अच्छा मूड में थे।
मैंने दीपा को अपने आंखों से रुक जाने की इशारा किया। मगर उसने अपनी जुबांन ( जीभ)  बाहर निकाल कर आंखों को तिरेरते हुए मुझे चुप रहने की इशारा की किया।
" आप दोनों क्या गुटरगू करने में लगे हो?" भैया अपने टाइ खोलते हुएहम दोनों से बोले।
" कुछ नहीं जीजा जी ! बस सोच रही थी आज अगर घर नहीं गई तो भैया गुस्सा करेंगे। " दीपा घबराकर  भैया की ओर देखती हुई जवाब दी।
" रुको मैं तुम्हारे भैया से बात करती हूं"  आदिति भाभी बोल कर अपने फोन से नंबर डायल करने लगे।
" हेल्लो ! मै  आदिति बोल रही हूं"
"हां बोलो आदिति" दीपा के भैया आशीष ने बोले।
" भैया मैं दीपा को आज अपने घर  रुकने को बोल रही हूं तो वह नहीं मान रही है । और वापस घर जाने की जिद कर रही है। आप बोलिए ना दीपा को कि आज यहीं रुक जाए"  अदिति भाभी बोली l

तेरी - मेरी आशिकी ! Part - 09 ! कॉलेज लव स्टोरी इन हिंदी ! School Love Story In Hindi ! Love Feeling & Romantic Love Story In College ! Love Triangle story

" मुझे दीपा से बात कराओ। मैं उसे बोल देता हूं कि तुम रात में वहीं रुक जाओ। वैसे भी वह अनजान के घर थोड़े ना रुक रही है। अरे वह तो तुम्हारे घर में रुक रही है तो मुझे चिंता किस बात की होगी।" दीपा के भैया आशीष ने बोले।
आदित्य भाभी फोन दीपा को थमा दी। दीपा अपने भैया से बात करने के बाद मेरे घर पर ही रुक गई।
दीपा को मेरे घर पर रूकने से सब लोग काफी खुश थे । खाश कर मैं l मैं तो उस दिन कुछ ज्यादा ही खुश था।
सभी लोग रात के डिनर करने के बाद अपने-अपने कमरे में सोने चले गये। माँ के बगल के कमरे में दीपा सो रही थी जबकि मैं २nd फ्लोर के सबसे शानदार कमरा में मैं सो रहा था।
    रात के 11:00 बज रहे थे मगर मेरी आंखें से नींद गायब हो चुकी थी और उधर दीपा भी अपने कमरे में करवटें बदल रही थी।
 हम दोनों अलग-अलग कमरे में जरूरत थे मगर हम दोनों व्हाट्सएप वीडियो कॉल से एक दूसरे के पास ही मौजूद थे।
" यार नींद बिल्कुल ही ना आ रही है। क्या करूँ?" मैनें बोला।
" अभी सोने का टाइम कहां हुआ है छोटे! " दीपा हंसती हुई बोली।
" दीपा तुम्हें मजाक दिख रही है। सच में नींद नहीं रही है यार, ऐसा करो तुम भी छ्त पर ही आ जाओ । एक साथ बैठ कर कुछ बातें करते हैं । " मैनें कहा ।
" अच्छा आप हो ! क्यों जी इतनी जल्दी क्यों जाना चाह रही हैं ? थोड़ा मेरे तरफ से भी रुक जाइए।" अर्जून भैया बोले।
तेरी - मेरी आशिकी ! Part - 09 ! कॉलेज लव स्टोरी इन हिंदी ! School Love Story In Hindi ! Love Feeling & Romantic Love Story In College ! Love Triangle story

 उस दिन भैया के बात से पता चल रहा था कि उस दिन भैया काफी अच्छा मूड में थे।
मैंने दीपा को अपने आंखों से रुक जाने की इशारा किया। मगर उसने अपनी जुबांन ( जीभ)  बाहर निकाल कर आंखों को तिरेरते हुए मुझे चुप रहने की इशारा की किया।
" आप दोनों क्या गुटरगू करने में लगे हो?" भैया अपने टाइ खोलते हुएहम दोनों से बोले।
" कुछ नहीं जीजा जी ! बस सोच रही थी आज अगर घर नहीं गई तो भैया गुस्सा करेंगे। " दीपा घबराकर  भैया की ओर देखती हुई जवाब दी।
" रुको मैं तुम्हारे भैया से बात करती हूं"  आदिति भाभी बोल कर अपने फोन से नंबर डायल करने लगे।
" हेल्लो ! मै  आदिति बोल रही हूं"
"हां बोलो आदिति" दीपा के भैया आशीष ने बोले।
" भैया मैं दीपा को आज अपने घर  रुकने को बोल रही हूं तो वह नहीं मान रही है । और वापस घर जाने की जिद कर रही है। आप बोलिए ना दीपा को कि आज यहीं रुक जाए"  अदिति भाभी बोली l
" मुझे दीपा से बात कराओ। मैं उसे बोल देता हूं कि तुम रात में वहीं रुक जाओ। वैसे भी वह अनजान के घर थोड़े ना रुक रही है। अरे वह तो तुम्हारे घर में रुक रही है तो मुझे चिंता किस बात की होगी।" दीपा के भैया आशीष ने बोले।
आदित्य भाभी फोन दीपा को थमा दी। दीपा अपने भैया से बात करने के बाद मेरे घर पर ही रुक गई।

तेरी - मेरी आशिकी ! Part - 09 ! कॉलेज लव स्टोरी इन हिंदी ! School Love Story In Hindi ! Love Feeling & Romantic Love Story In College ! Love Triangle story


दीपा को मेरे घर पर रूकने से सब लोग काफी खुश थे । खाश कर मैं l मैं तो उस दिन कुछ ज्यादा ही खुश था।
सभी लोग रात के डिनर करने के बाद अपने-अपने कमरे में सोने चले गये। माँ के बगल के कमरे में दीपा सो रही थी जबकि मैं २nd फ्लोर के सबसे शानदार कमरा में मैं सो रहा था।

    रात के 11:00 बज रहे थे मगर मेरी आंखें से नींद गायब हो चुकी थी और उधर दीपा भी अपने कमरे में करवटें बदल रही थी।
 हम दोनों अलग-अलग कमरे में जरूरत थे मगर हम दोनों व्हाट्सएप वीडियो कॉल से एक दूसरे के पास ही मौजूद थे।
" यार नींद बिल्कुल ही ना आ रही है। क्या करूँ?" मैनें बोला।
" अभी सोने का टाइम कहां हुआ है छोटे! " दीपा हंसती हुई बोली।
" दीपा तुम्हें मजाक दिख रही है। सच में नींद नहीं रही है यार, ऐसा करो तुम भी छ्त पर ही आ जाओ । एक साथ बैठ कर कुछ बातें करते हैं । " मैनें कहा ।


Continue ......
 Next Episode READ NOW


©अविनाश अकेला  (लेखक के बारे में अधिक जानकारी के लिए click करें )

 All rights reserved by Author


Support  my writing work
(अगर आप मेरे काम को पसन्द करते हैं और आप इसे निरंतर पढ़ते रहना चाहते हैं तो कृपया  donate करें )



0/Post a Comment/Comments

कमेंट करने के लिए दिल से आभार

Featured Posts