Friday, September 13, 2019

अभिप्रिया की चिठ्ठी S03 - कर्मा पूजा के कुछ यादें ( लव लेटर हिंदी में )

अभिप्रिया की चिठ्ठी S03 - कर्मा पूजा के कुछ यादें ( लव लेटर हिंदी में )

                                                                                       
अभिप्रिया-की-चिठ्ठी-हिंदी-लव-लेटर-अभिप्रिया-की-चिठ्ठी-का-फोटो-abhipriya-ki-chiththi-photo-avinash-akela-love-letter-storybaaz-love-letter-in-hindi-images
                           
                                                                                                       
                                                                          दिनांक 
                                                                      12/092019
           जानेमन  
             प्रिया

                   अगर तुम्हारी याद नही आती तब इधर का समाचार बढ़िया होता लेकिन इ जो तुम्हारी फेयर & लवली और पोंड्स वाली चिकना और गोरी चेहरा हैं ना जो एक दम हमारा आँखों में फोटों जैसन छपल रहता हैं एही से हमारा दोनों आंख खाली सुजल रहता हैं .
                बाकि ऐकर बात छोड़ दे तब इधर का पूरा समाचार ठीक हैं , उम्मीद करते हैं कि तुम्हारे तरफ का भी समाचार एक – दम बढियां ही होगा . क्या बात हैं तुम अपने मम्मी – पापा के समाचार कई दिनों से नही बतायी हो ? अगली बार जब चिठ्ठी लिखना तब अपने मम्मी – पापा यानि हमरा एकलौता सास-सुसर जी समाचार जरुर लिख देना काहे कि उनके ही कृप्या हैं कि हमरा जैसन छुछुंदर लड़का के तुम जैसी सुंदर गर्लफ्रेंड भेटाया हैं .
          सुने हैं की पिछला सोमवार को तुम कर्मा पुजा की हुई थी . और रात में गौरा –गणेश के पूजा करने के लिए सविता के घर गयी थी . पगली ! हमको बोल देती , हम तुम्हारे घरे में ही गौरा –गणेश बनाने के लिए मिट्टी ला देते .
                   तुमको याद हैं ? कुछ  साल पहले जब हम गौरा – गणेश बनाने के लिए मिट्टी लाने गये थे तब तुम भी साथ में वहां गयी थी और उस दिन हम –दोनों एक साथ नदी में खूब नहाये थे . और फिर पानी से निकलते समय हमरा माथा (सर ) तुम्हारे माथा से टकरा ( ठोकर ) गया था तब तुम बोली थी , “ माथे को एक बार और टकराओ नही तो कभी पानी में डूब जाओगे “
इ बात सुनकर उस दिन हमको बहुत हंसी आया था . तुम्हारी  यही भोलेपन देखकर तुम पर दिल आ गया था और मन ही मन तुम से प्यार करने लगा था . और  देखो भगवान के माया आज तुम भी हमसे प्यार करती हो .
                  शायद ! तुमको याद होगा . जब हम वर्ग 10th में पढ़ते थे तब पहली बार हम – दोनों एक दुसरे को  Kiss कर्मा पूजा के दिन ही किये थे  और उस दिन तुम उपवास भी थी .
सच कहूँ तो ये कर्मा पुजा जितना महत्त्वपूर्ण तुम्हारे भाई के लिए हैं , उतना ही महत्वपूर्ण मेरे लिए भी हैं क्योकि इस कर्मा पूजा के साथ हमारी कई यादें जुड़ा हैं .
             खैर ! अब तो ये पुरानी बातें हैं . इस कर्मा पुजा में तो तुम प्रसाद तक भी नही खिलायी . और वो तो अलग बात हैं  ........  !   ठीक हैं , अपना और मम्मी-पापा का ख्याल रखना . समय पर खाना खाना और समय पर कोचिंग जाना . Love You .

                                                                    सिर्फ तुम्हारा आशिक़
                                                                          अभिप्रिया 

© अविनाश अकेला 

नोट :- 
दोस्तों पिछले बुधबार को काफी व्यस्त रहने के कारण इस चिठ्ठी को published नही कर पाया था इसलिए इसे आज published कर रहा हूँ . बाकि इस सीरिज कि सभी चिठ्ठी बुधबार को ही आएगी . 


इसे भी पढ़े 


 अभिप्रिया की चिठ्ठी - S01   ( लव लेटर हिंदी में )

*अभिप्रिया की चिठ्ठी - S02 ( लव लेटर हिंदी में ) 


* " अभिप्रिया की चिठ्ठी " के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ  क्लिक करें 

No comments:

Post a Comment

कमेंट करने के लिए दिल से आभार