Sunday, December 23, 2018

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी हिंदी में Best motivational story in hindi

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi 

mountain-man-dashrath-manjhi-ki-kahani-hindi-me-motivational-story

अगर हौसला बुलंद हो तो दुनिया का कोई भी काम असंभव नहीं है । यह बात दशरथ मांझी ने बखूबी साबित करके दिखाया है।  पर्वत पुरुष दशरथ मांझी ने छेनी हथौड़ी एवं मजबूत इरादे से पहाड़ का सीना चीर कर दिखाया है ।  दशरथ मांझी का जन्म 14 जनवरी 1929 को बिहार में गया जिला के एक छोटे से गांव गहलौर में हुई थी । उनके परिवार वाले बहुत ही गरीब थे इनका जन्म हरिजन समाज के मुसहर जाति में हुई थी । शुरुआती जीवन में उन्हें अपना छोटे से छोटा अधिकार मांगने के लिए भी संघर्ष करना पड़ता था ।  गांव में रहने वाले लोग को वहां से बाजार जाने के लिए पहाड़ को पार करना पड़ता था या पहाड़ को चक्कर लगाना पड़ता था ।

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi 

  💝 Best Motivational quotes 2019 इसे पढ़ने के बाद जोश से भर जायेगेंगे 

 उस समय देश के अधिकतर गांव विकास कर रही थी परंतु गहलौर  में उन दिनों नही बिजलीथी  और नहीं पानी , उन्हें हर छोटी  बड़ी जरूरत के लिए गांव से बाहर जाना पड़ता था वो भी पहाड़ी को पार कर के । दशरथ मांझी ने बहुत कम उम्र में ही अपना गांव छोड़कर धनबाद चले गए थे ।  दशरथ मांझी धनबाद जाने के बाद लगभग 10 वर्षों तक वहां कोयला खदान में काम किया था । 10 वर्षों तक कोयला खदान में काम करने के पश्चात दशरथ माझी अपने गांव वापस आ गए थे और गेहलौर में अपनी पत्नी के साथ रहा करते थे ।  उनकी आर्थिक स्थिति सही नहीं थी जिसके कारण वह जमींदारों के यहां मजदूरी किया करते थे ।  एक दिन दशरथ मांझी खेत में काम कर रहे थे और उनकी पत्नी फागुनी देवी उन्हें दोपहर का खाना पहुंचाने खेत में आ रही थी ।

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi

 फागुनी देवी पहाड़ को पार करके खाना पहुँचाने आ रही थी तभी उसकी पैर पत्थर से पिछल गई और फागुनी पहाड़ के दरार में जा गिरी  । और सही समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण दशरथ मांझी की पत्नी का  देहांत हो गई  । चुकी गांव  में  कोई अस्पताल नहीं था और  गांव से शहर जाने के लिए उस पहाड़ को पार करना पड़ता था , जिसे पहाड़ को पार करने में काफी समय लग जाती थी यही कारण था जब दशरथ मांझी की पत्नी फागुनी देवी को सही समय पर अस्पताल नहीं पहुंचा पाया जिसके कारण उनकी देहांत हो गई ।

dasharath-manjhi-ka-real-photo-real-photo-of-dashrath-manjhi

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi 

पत्नी की मृत्यु के बाद दशरथ मांझी को अंदर से तोड़ दिया था । क्योंकि वह अपनी पत्नी को बहुत प्यार करते थे उनके बाद उन्होंने उस पहाड़ को काटकर रास्ता बनाने का निर्णय लिया ।  दशरथ मांझी ने अपने पालतू बकरी को बेचकर छेनी- हथोड़ा लिया और पहाड़ को तोड़ना शुरू कर दिया शुरू में गांव वालों ने दशरथ मांझी को पागल कहने लगा तो कई लोग उसे सनकी भी कहने लगा था ,  परंतु दशरथ मांझी ने किसी की बात नहीं सुनी और निरंतर पहाड़ को तोड़ता रहा और अपने बुलंद हौसले और मजबूत इरादे पर डाटा रहा है ।

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi

 गांव के कुछ बुद्धिजीवियों ने उन्हें समझाया पहाड़ काट ना किसी इंसान की बस की बात नहीं है तुम इसमें अपना जिंदगी बर्बाद मत करो पर दशरथ मांझी ने किसी की बात नहीं सुनी।    दशरथ मांझी 18 वर्ष की उम्र से ही पहाड़ काटने में लग गए थे और लगातार 22 वर्षों तक पहाड़ को काटते रहे;  उनके दृढ़ विश्वास एवं मजबूत इरादे के आगे पहाड़  भी हार गया और 22 वर्षों के मेहनत के फलस्वरूप 360 फुट लंबा 25 फुट गहरा और 30 फुट चौड़ा रास्ता बना दिया ।  जिसके कारण उनकी गांव गहलौर  से शहर की दूरी 55 किलोमीटर से घटकर 15 किलोमीटर हो गई ।


माउंटेन मैन दशरथ मांझी की कहानी Best motivational story in hindi 

 जिससे गांव वाले को शहर आने जाने में काफी सुविधा हुई ।
  दोस्तों हमें इस कहानी से यही सीख मिलती है कि इंसान के लिए कोई भी काम असंभव नहीं है । आप वह सब कुछ कर सकते हैं , जो आप सोच सकते हैं ।
बस शुरू कीजिए और उस काम को निरंतर करते रहिए सफलता एक दिन जरूर मिलेगी ।

इसे भी पढ़े :- 



No comments:

Post a Comment

कमेंट करने के लिए दिल से आभार