Monday, December 17, 2018

क्रिसमस क्यों मनाया जाता हैं ? क्रिसमस 25 दिसम्बर को क्यों मनाते हैं ? Christmas celebration in hindi

क्रिसमस क्यों मनाते हैं ?  क्रिसमस डे 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है ? Christmas celebration in hindi 

Christmas-photo-merry-christmas-images-happy-chrimas-photo



 भारत विविधताओं का देश है , यहां लगभग सभी प्रकार के धर्म के लोग रहते हैं  । और सभी धर्म के लोग अपने अपने त्यौहार को बहुत धूमधाम से मनाते हैं । हमारे देश में भी ईसाइयों का त्योहार क्रिसमस बहुत ही धूमधाम से मनाई जाती है । आप सोच रहे होंगे क्रिसमस क्यों मनाया जाता हैं ? आखिर क्रिसमस 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है ? Christmas celebration in hindi  क्रिसमस डे की कहानी क्या है ? आप के सभी प्रश्न का उत्तर इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको मिल जाएगी  ।

 क्रिसमस क्यों मनाते हैं ? Christmas celebration in hindi



 क्रिसमस ईसाई  धर्म का बहुत ही बड़ा त्यौहार है । ईसाई धर्म के लोग के लिए क्रिसमस का महत्व बहुत ज्यादा है । 25 दिसंबर को क्रिसमस का त्योहार पूरे विश्व में काफी धूमधाम से मनाई जाती है क्रिसमस की कहानी लगभग 2000 वर्ष पूर्व की है ।
 उस समय पूरे विश्व में रोम  का शासन हुआ करता था और वह लोग काफी क्रूर था ।  उसके अत्याचार से धरतीवासी बहुत दुखी थे तब प्रभु यीशु  उसके अत्याचार से बचाने के लिए अपने पुत्र जीसस को धरती पर भेजा था ।

Christmas-photo-merry-christmas-images-happy-chrimas-photo


 क्रिसमस क्यों मनाते हैं Christmas celebration in hindi 



 प्रभु ने अपने पुत्र के जन्म के लिए कुंवारी कन्या Merry को चुना था प्रभु के दूत ने प्रभु की इच्छा अनुसार Merry की शादी जोसेफ से करवा दिया था और उन्हें बताया गया था कि आप के गर्भ से प्रभु के पुत्र जीसस का जन्म होगा और वही पुत्र लोगों पर हो रहे अत्याचार को कम करेगा तथा बड़ा  होकर राजा बनेगा  ।  ऐसा माना जाता है कि जिस दिन जीसस का जन्म होने वाला था उस दिन Merry और जोसेफ को मजबूरी बस एक तबेले में रात गुजारनी पड़ी थी । जिस समय जीसस का जन्म हुआ था उस समय आकाश में एक चमकता हुआ तारा दिखाई दिया था जिससे लोगों को यह पता चल गयी थी कि प्रभु पुत्र जीसस का जन्म धरती पर हो गई है ।  ऐसा इसलिए माना जाता है कि जीसस के जन्म के पूर्व ही भविष्यवाणी की गई थी कि जिस दिन आकाश में सबसे ज्यादा चमकता हुआ तारा दिखाई देगा उसी दिन प्रभु के बच्चे जीसस का जन्म होगा । जन्म के बाद सभी लोग काफी खुश हुए । अब जीसस लोगों के बीच रहने लगे और मानव सेवा करना शुरू कर दिये थे ।

          💝 Happy New Year 2019 शायरी 

   कुछ लोगों का मानना है कि जीसस का जन्म 25 दिसंबर को हुई थी इसलिए क्रिसमस डे 25 दिसंबर को मनाई जाती है पर कुछ लोग इस बात को इनकार करते हैं । कुछ लोगों का मानना है कि जीसस का जन्म 25 दिसंबर को नहीं हुआ था बल्कि जीसस के जन्म और मृत्यु के सैकड़ों वर्ष बाद उनकी याद में ईसाईयों द्वारा 25 दिसंबर को क्रिसमस दिवस मनाने लगे । और  वही परंपरा आज तक चली आ रही है और यही कारण है कि क्रिसमस डे हम लोग 25 दिसंबर को ही मनाते हैं ।


 

क्रिसमस क्यों मनाते हैं Christmas celebration in hindi 



 सांता क्लॉस  :-  सांता क्लॉस को हर बच्चा  अच्छी तरह से जानता है क्रिसमस में बच्चों को खासकर सांता क्लास का ही इंतजार रहता है । सांता क्लॉस का जन्म तीसरी सदी में जीसस के मृत्यु के 280 साल बाद हुआ था संता क्लॉज के माता-पिता का देहांत बचपन में हो गया था । माता पिता के देहांत के बाद  सांता क्लॉस का विश्वास सिर्फ भगवान जीसस में था ।  संता ने अपने जीवन भगवान को  अर्पण कर दिया था । सांता क्लॉस को गरीबों एवं बच्चों को मदद करना बहुत अच्छा लगता था वह हमेशा बच्चों को गिफ्ट देते थे यही कारण है कि आज भी शांता का इंतजार लोग करते हैं और उनसे कुछ गिफ्ट पाने की उम्मीद रखते हैं ।
santa-claus-bachcho-ke-liye-gift-le-jate-hue-ki-photo
santa claus bachcho ke liye gift le jate hue ki photo


 क्रिसमस ट्री :-  जिस दिन प्रभु पुत्र जीसस का जन्म हुआ था उस दिन सभी भगवान जीसस के माता पिता को देखने आए थे ।  और उस समय सभी पेड़ पौधे को सजाया गया था । यही कारण है कि हम आज भी क्रिसमस डे पर 25 दिसंबर को पेड़ पौधे को सजाते हैं और उससे क्रिसमस ट्री कहा जाता है ।

 कार्ड देने की परंपरा :- क्रिसमस डे 25 दिसंबर पर कार्ड देने की परंपरा पहली बार 1842 ईसवी में शुरू हुई थी और यह परंपरा अब तक कायम है और लोग आज भी क्रिसमस डे पर कार्ड देते है ।

   💝  नये साल की शुभकामनाएं शायरी 2019 - इसे भी पढ़े 

 दोस्तों क्रिसमस डे क्यों मनाते हैं क्रिसमस 25 दिसंबर को क्यों मनाई जाती है यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो उसे अपने दोस्त एवं परिवार को साथ शेयर करें

No comments:

Post a Comment

कमेंट करने के लिए दिल से आभार