Wednesday, August 8, 2018

जिम्मेवारी - heart touching story in hindi । Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi

Motivational story photo prernadayak kahani story for kids
 Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi
नन्हा - सा हाथ और हाथों में कुछ खिलौने के टुकड़े , कंधे पर एक  जुट की बोड़ी जिस की लंबाई उसकी लंबाई से  बड़ी प्रतीत हो रही थी।
 बाल बिखरा हुआ और कपड़े तो मानो मिट्टी का ही बना हुआ था।  देखने में उसकी उम्र 8 से 10 वर्ष लग रही थी।
 यह मुझे स्कूल जाते समय प्रतिदिन सड़क के किनारे कचरा बनता हुआ मिल जाता है । आज उसके हाथ में खिलौने के दो टुकड़े थे वह शायद इसे कचरे के ढेर से मिली थी।
Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi

💝 चाणक्य नीति  ( आपको इसे एक बार जरूर पढ़ना चाहिए )


 उसके चेहरे से साफ दिख रही थी कि वह उस खिलौने के साथ खेलना चाहता था।
 वह भी अन्य बच्चों की तरह दौड़ना ,खेलना ,हंसना और पढ़ना चाहता था लेकिन उसकी मजबूरियां इसकी इजाजत नहीं दे रही थी ।
वह एक हाथ से  कचड़े से उपयोगी वस्तु को उठाकर बोड़ी में डाल रहा था और दूसरे हाथ से टूटी हुई खिलौने को पकड़ा हुआ था जिससे वह बार-बार अपनी तिरछी आंखों से  निहार रहा था ।
Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi
 उसे प्रतिदिन कचरा निकलता देखें मुझे बुरा लगता था  और सोचता काश इसे कोई इसे, इस कचरे की दुनिया से बाहर निकालें और इसे अच्छी शिक्षा देकर इसे आगे बढ़ाएं ताकि वह भी अपना जीवन सही तरीके से  जी सके।
Motivational story photo prernadayak kahani story for kids

 जब मैं उसके नजदीक जाकर खड़ा हुआ तो वह मुझसे देखकर  खड़ा हो गया।
  "  बाबू तुम्हारा नाम क्या है ?''  मैंने कहा ।
" जी !  जी राजा "  उसने पलकें उठाते हुए  कहा ।
 उसकी आवाज बुलंद थी वह वास्तव में राजा था उसके पास सब कुछ था पैसे  के अलावे ।
 लेकिन यही पैसे की आवाज उसकी बचपन को खाया जा रही थी।
Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi
"  राजा , तुम स्कूल क्यों नहीं जाते हो ? "  मैंने दूसरी प्रश्न पूछा ।
"  साहब ! पढ़ने के लिए पैसे तो ......"
  मैंने उसकी बातों को बीच में हुक रोकते हुए कहा "   लेकिन तुम जैसे बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी तो सरकार लेती है"
 "  साहब !  सरकार अपनी जिम्मेदारी निभा रही है और मैं अपने परिवार की जिम्मेदारी निभा रहा हूं "  उसकी जवाब सुनकर मैं सन्न रह गया और वह कचड़ा चुनता हुआ धीरे-धीरे मुझसे दूर चला  गया ।
Best story in hindi | hindi story 2018| moral story in hindi
 उसके जाने के बाद मेरे दिमाग में एक सवाल गूंजता रहा " क्या सरकार वास्तव में सिर्फ अपनी जिम्मेदारी निभा रही है या बाल मजदूरी को रोकने के लिए कोई ठोस कदम भी उठा रही हैं "

writer - avinash akela



इसे भी पढ़े  -

             
             1.   ईद मुबारक   ( एक मजबूर छात्र की प्रेम कहानी ) Heart touching story 


             2.  फेसबुकिया प्यार ( funny story)



             3. जिद्दी मेंढक (  motivational story ) सफल होने के लिए अपने कान बन्द रखे

             4.ये कहानी आपकी सोच बदल देगी ( best motivational story )
       
     
             5. बूढ़ी माँ  ( माँ के ममता की कहानी ) 


2 comments:

कमेंट करने के लिए दिल से आभार